महायान  

महायान बौद्ध धर्म की एक प्रमुख शाखा है, जिसका आरंभ पहली शताब्दी के आस-पास माना जाता है। ईसा पूर्व पहली शताब्दी में वैशाली में बौद्ध संगीति हुई, जिसमें पश्चिमी और पूर्वी बौद्ध पृथक् हो गए। पूर्वी शाखा का ही आगे चलकर 'महायान' नाम पड़ा। भक्ति और पूजा की भावना के कारण इसकी ओर लोग सरलता से आकृष्ट हुए। महायान मत के प्रमुख विचारकों में अश्वघोष, नागार्जुन और असंग के नाम प्रमुख हैं।

शुरुआत

'महायान' शब्द का वास्तविक अर्थ इसके दो खण्डों (महा+यान) से स्पष्ट हो जाता है। 'यान' का अर्थ मार्ग और 'महा' का श्रेष्ठ , बड़ा या प्रशस्त समझा जाता है। महायान बुद्ध की पूजा करता है। ये थेरावादियों को "हीनयान" (छोटी गाड़ी) कहते हैं। बौद्ध धर्म की एक प्रमुख शाखा है, जिसका आरंभ पहली शताब्दी के आस-पास माना जाता है। ईसा पूर्व पहली शताब्दी में बौद्ध संगीति सम्पन्न हुई थी, जिसमें पूर्वी शाखा अलग हो गई थी। इसी शाखा का आगे चलकर 'महायान' नाम पड़ा।

प्रचार-प्रसार

देश के दक्षिणी भाग में इस मत का प्रसार देखकर कुछ विद्वानों की मान्यता है कि इस विचारधारा का आरंभ उसी अंचल से हुआ। महायान भक्ति प्रधान मत है। इसी मत के प्रभाव से बुद्ध की मूर्तियों का निर्माण आंरभ हुआ। इसी ने बौद्ध धर्म में बोधिसत्व की भावना का समावेश किया। यह भावना सदाचार, परोपकार, उदारता आदि से सम्पन्न थी। इस मत के अनुसार 'बुद्धत्व' की प्राप्ति सर्वोपरि लक्ष्य है। महायान संप्रदाय ने गृहस्थों के लिए भी सामाजिक उन्नति का मार्ग निर्दिष्ट किया।

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=महायान&oldid=604930" से लिया गया