महाविहार  

महाविहार तीसरी शताब्दी ई.पू. के उत्तरार्ध में सीलोन (वर्तमान श्रीलंका) की प्राचीन राजधानी, अनुराधापुर में स्थापित बौद्ध मठ है। सिंहली राजा देवनामपिय तिस्स ने भारतीय भिक्षु महेंद्र द्वारा उन्हें बौद्ध बनाए जाने के कुछ ही समय बाद इस मठ का निर्माण किया।

बौद्धों का मुख्य गढ़

क़रीब 10वीं सदी तक यह एक प्रमुख धार्मिक एवं सांस्कृतिक केंद्र और परंपरावादी (जैसे थेरवाद) बौद्धों का मुख्य गढ़ रहा। श्रीलंका में बौद्ध धर्म के अति महत्त्व के कारण महाविहार के भिक्षुओं की प्रतिष्ठा इतनी बढ़ गई कि उनकी शक्ति एवं प्रभाव अक्सर धर्म की परिधि से बाहर निकलकर धर्मनिपेक्ष राजनीति में हस्तक्षेप करने लगे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=महाविहार&oldid=592761" से लिया गया