चरी नृत्य  

चरी नृत्य

चरी नृत्य किशनगढ़, अजमेर का प्रसिद्ध नृत्य है। इस नृत्य में बांकिया, ढोल एवं थाली का प्रयोग किया जाता है। गुर्जर जाति के लोग इस नृत्य को पवित्र मानते हैं। स्त्रियाँ अपने सिर पर चरियाँ रखकर नृत्य करती हैं। कभी-कभी नृत्य करने वाली नर्तकियाँ एक साथ सिर पर सात चरियाँ रखकर भी नृत्य करती हैं। इनमें से सबसे ऊपर की चरी में काकड़ा के बीज में तेल डालकर दीपक जलाये जाते हैं।

नामकरण

राजस्थान के अजमेर-किशनगढ़ क्षेत्र में गुर्जर समुदाय की महिलाओं द्वारा चरी नृत्य किया जाता है। 'चरी' एक पात्र होता है। यह आमतौर पर पीतल का बना होता है और मटके के आकार का होता है। चूंकि इस नृत्य में चरी का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए इसे 'चरी नृत्य' के नाम से जाना जाता है। विशेष बात यह है कि नृत्यांगनाएँ इन चरियों में आग जलाकर सिर पर रखकर नृत्य करती हैं।

चरी

राजस्थान के गाँवों में पानी की कमी होने के कारण महिलाओं को कई किलोमीटर तक सिर पर 'चरी' अर्थात् 'घड़ा' उठाए पानी भरने काफ़ी दूर-दूर तक जाना पड़ता है। इस नृत्य में पानी भरने जाते समय के आल्हाद और घड़ों के सिर पर संतुलन बनाने की अभिव्यक्ति है। इस नृत्य में महिलाएँ सिर पर पीतल की चरी रख कर संतुलन बनाते हुए पैरों से थिरकते हुए हाथों से विभिन्न नृत्य मुद्राओं को प्रदर्शित करती है। नृत्य को अधिक आकर्षक बनाने के लिए घड़े के ऊपर कपास से ज्वाला भी प्रदर्शित की जाती है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=चरी_नृत्य&oldid=612615" से लिया गया