गरुड़नथूकम  

गरुड़नथूकम केरल का लोक नृत्य है। यह नृत्य उन मंदिरों में प्रस्तुत किया जाता है, जहां भद्रकाली देवी स्थापित हों।

  • दो या तीन नर्तक गरुड़ का स्वांग रचाकर खास तरह के वाद्य यंत्र की ताल पर नाचते हैं।
  • गरुड़ (पक्षियों का राजा) का प्रतिरूप बनाकर कलाकार नृत्य के दौरान पंखों के छिन्न-भिन्न होने के बावजूद अपने पंजों में सांप को दबाए रखता है। वह आनंदातिरेक में अपने पंखों को फैलाकर और गोल घूमकर नाचता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=गरुड़नथूकम&oldid=633589" से लिया गया