रावत नृत्य  

रावत नृत्य छत्तीसगढ़ राज्य के लोक नृत्यों में से एक है। इस नृत्य को 'अहिरा' या 'गहिरा' नृत्य भी कहा जाता है। छत्तीसगढ़ में ही नहीं अपितु सारे भारत में रावतों की अपनी संस्कृति है। उनके रहन-सहन, वेश-भूषा, खान-पान, रीति-रिवाज भी विभिन्न प्रकार के हैं। देश के कोन-कोने तक शिक्षा के पहुँचने के बाद भी रावतों ने अपनी प्राचीन धरोहरों को बिसराया नहीं है। यादव, पहटिया, ठेठवार और राउत आदि नाम से संसार में प्रसिद्ध इस जाति के लोग इस नृत्य पर्व को 'देवारी' (दीपावली) के रूप मे मनाते हैं।

नृत्य के भाग

रावत नृत्य के तीन भाग हैं- सुहई बाँधना, मातर पूजा और काछन चढ़ाना। माँ लक्ष्मी के पूजन 'सुरहोती' के दूसरे दिन गोवर्धन पूजा का विधान है।[1] राउत अपने इष्ट देव की पूजा करके अपने मालिक के घर सोहई बाँधने निकल पड़ते हैं। गाय के गले में सोहई बाँधकर उसकी बढ़ोतरी की कामना करते हैं और साथ ही यह गीत गाते हैं-

सुहाई बनायेंव अचरी पचरी गाँठ दियो हर्रेया।
जउन सुहाई ल छारही, ओला लपट लागे गौर्रेया।।

अपने जाने-पहचाने लोगों को देखकर गाय रंभाने लगती है। सुहाई बाँधते सयम गायों को सुहाई से सजाया और बैलों को गैहाटी बाँधा जाता है। सुहाई बाँधते समय रावत लोग इस गीत को गाते हैं-

एसो के बन बरसा
घरसा परगे हील
गाय कहेंव रे लाली
संगे रेंगाबो पीले

रावत लोग पूरे दल में कौड़ी और मोर पंख से सज-धज कर तथा ढोलक, मांदर, झांझ और डंडा के साथ नाचते और गाते हुए अपने मालिकों के घर जाते हैं।[1] इस बीच ये लोग गीत भी गाते हैं-

उठे रहेव मालिक नौ दस लगगे वासे।
भीतर दुलरवा दूध पीये बाहिर धुले रनवासे।।

यहाँ मालिक के लड़के को 'दुलरवा' ओर मिट्टी के घर को 'रनवास' कहा गया है। आँचलिक गीतों में आत्मीयता प्रकट होती है। लोक संगीत की हर धुन पर रावतों के पग थिरक उठते हैं। वे लोग गाते हैं_

एक सिंग तो ऐसे तैसे
एक सिंग तोर डंडा।
गीजर गीजर के आबे रे
खैरका डांढ़ तोर मूढ़ा।

रावतों का दल सोहाई बाँधने के बाद दान दाता मालिक के लिये मंगल कामनाएँ करते हैं। इस शुभ अवसर पर लाठी और देव पितरों की पूजा की जाती है। नाचते और गाते रावतों को मालिक रुपया-पैसा या धान देकर विदा करते हैं। इस पर रावत फिर से गान करते हैं-

हरियर चक चंदन, हरियर गोबर आबिना।
गाय गाय कोठा भरे, बरदा भरे शौकीन।।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 केशरवानी, अश्विनी। छत्तीसगढ़ के लोकनृत्य (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल.)। । अभिगमन तिथि: 29 मार्च, 2012।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=रावत_नृत्य&oldid=496626" से लिया गया