गणगौर नृत्य  

गणगौर नृत्य मध्य प्रदेश के निमाड़ अंचल का प्रमुख नृत्य है। इस नृत्य में नर्तकियाँ एक दूसरे का हाथ पकडे़ वृत्ताकर घेरे में गौरी मॉं से अपने पति की दीर्घायु की प्रार्थना करती हुई नृत्य करती हैं। इस नृत्य के गीतों का विषय शिव-पार्वती, ब्रह्मा-सावित्री तथा विष्णु-लक्ष्मी की प्रशंसा से भरा होता है।

  • यह मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध नृत्य है, जो पारम्परिक त्यौहार के रूप में मनाया जाता है।
  • गणगौर उत्सव तीज के अवसर पर चैत्र मास में शुरू होता है और नौ दिन तक चलता है।
  • यह उत्सव माँ पार्वती की प्रीति को समर्पित होता है।
  • झालरिया एवं गणगौर नृत्य ढोल की थाप पर होता है।
  • इस नृत्य में गौरी एवं शिव, जिन्हें वहाँ की परम्परा में 'रेनू-धनियार' के नाम से जाना जाता है, को रथ पर बैठाया जाता है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मध्य प्रदेश के लोक नृत्य (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 17 अक्टूबर, 2012।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=गणगौर_नृत्य&oldid=298833" से लिया गया