थिरयाट्टम  

थिरयाट्टम केरल की लोक कला है।

  • इस कला की प्रस्तुति मालाबार के मध्य भाग में कावुस त्योहार के दौरान दी जाती है। यहां 'थिरा' शब्द का अर्थ तेज प्रकाश से है।
  • थिरयाट्टम नृत्य में कलाकार अपना श्रृंगार करता है, वह अपनी कांतिमय आभा को और अधिक करने के लिए नारियल के कई खोलों में प्रज्जवलित अग्नि के साथ प्रस्तुति देता है, जिससे यह प्रस्तुति और अधिक चकित करने वाली बन जाती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=थिरयाट्टम&oldid=633343" से लिया गया