कठघोड़वा नृत्य  

कठघोड़वा नृत्य बिहार का लोक नृत्य है। यह नृत्य सम्पन्न परिवारों में विवाह समारोहों आदि के अवसर पर किया जाता है।

  • लकड़ी तथा बाँस की खपच्चियों द्वारा निर्मित तथा रंग-बिरंगे वस्त्रों के द्वारा सुसज्जित घोड़े की पीठ के ऊपरी भाग में आकर्षक वेशभूषा एवं मेकअप से सजा नर्तक अपनी पीठ से बंधे घोड़े के साथ नृत्य करता है।
  • जब नर्तक परम्परागत लोक वाद्यों के साथ नृत्य करता है, तो उसका नृत्य देखते ही बनता है।
  • बिहार में आज भी कठघोड़वा लोक नृत्य बहुत लोकप्रिय है और सम्पन्न परिवारों के विवाह समारोहों में लोक संस्कृति का पर्याय है।
  • यह नृत्य उत्तर प्रदेश के पूर्वी भागों में भी काफ़ी प्रचलित है, लेकिन अब इस नृत्य का प्रचलन समाप्त होता जा रहा है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कठघोड़वा_नृत्य&oldid=306941" से लिया गया