ओरछा पक्षी अभयारण्य  

ओरछा पक्षी अभयारण्य (अंग्रेज़ी: Orchha Bird Sanctuary) मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले में उत्तर प्रदेश की सीमा से लगा हुआ है। यह अभ्यारण बेतवा नदी और जामनी नदी के बीच में स्थित एक टापू पर बसा हुआ है। दोनों नदियों के बीच में होने के कारण पूरा अभ्यारण्य वेटलैंड है, इस कारण यहां पक्षियों के लिए आदर्श वातावरण है। यह लगभग 46 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में स्थापित है।

  • क़रीब 46 वर्ग कि.मी. के क्षेत्र में फैला यह अभयारण्य, जिसके सामने सुंदर बेतवा नदी बहती है, दुर्लभ किस्म के पौधों और पक्षियों का घर है।
  • यह वर्ष 1994 में स्थापित किया गया था और तब से वन्यजीव उत्साही और पक्षी-प्रेमियों को आकर्षित कर रहा है।
  • यहां प्रचलित कुछ प्रजातियां जिनमें बाघ, लंगूर, तंदुआ, भालू, सियार, नीला बैल और बंदर शामिल हैं।
  • पक्षियों के समूह की प्रजातियां जो यहां मिल सकती हैं, वे हैं कठफोड़वा, किंगफिशर, उल्लू, हंस, जंगली झाड़ीदार बटेर और कलहंस। इसके अलावा, इसमें रिवर राफ्टिंग, फिशिंग, ट्रेकिंग, बोटिंग, कैंपिंग, जंगल ट्रैकिंग और हाइकिंग जैसे कई साहसिक खेल भी हैं।
  • यहां जाने का सबसे अच्छा समय नवंबर से जून तक है।[1]
  • अभयारण्य छतरी से 1 कि.मी. की दूरी पर और ओरछा किले से 2 कि.मी. की दूरी पर स्थित है, इस प्रकार यात्री सभी तीन स्थलों का भ्रमण कर सकते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ओरछा पक्षी अभयारण्य (हिंदी) incredibleindia.org। अभिगमन तिथि: 06 अप्रॅल, 2021।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ओरछा_पक्षी_अभयारण्य&oldid=660840" से लिया गया
<