चतुर्भुज मंदिर, ओरछा  

चतुर्भुज मंदिर (अंग्रेज़ी: Chaturbhuj temple, Orchha) ओरछा, मध्य प्रदेश के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है। यह सुंदर मंदिर आसमान को छूते अपने शिखरों के कारण दूर से ही दिखाई देता है। 4.5 मीटर ऊंचे मंच पर निर्मित, लंबी सीढ़ियां मुख्य मंदिर तक ले जाती हैं। ऐसा कहा जाता है कि यह वह जगह है जहां भगवान राम की एक मूर्ति को स्थापित किया जाना था, पर ऐसा करने में असफल, राजा मधुकर, जो कि ओरछा के तत्कालीन शासक थे, ने भगवान विष्णु की एक मूर्ति को यहां स्थापित करने का फैसला किया।

  • 'चतुर्भुज' का शाब्दिक अर्थ है- 'चार भुजाओं वाला' और भगवान राम को ऐसा माना जाता है, जिन्हें भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है।
  • कहा जाता है कि राजा मधुकर ने अपनी पत्नी गणेश कुमारी के लिए यह मंदिर बनवाया था, जो भगवान राम की भक्त थीं।
  • किंवदंती है कि एक स्वामी सपने में रानी को दिखाई दिए और उसे एक मंदिर बनाने के लिए कहा। रानी राम की जन्मभूमि कहे जाने वाली अयोध्या गई, ताकि मूर्ति खरीदी जा सके। लौटने पर, उसने मूर्ति को अपने महल में रखा क्योंकि मंदिर अभी भी निर्माणाधीन था। मंदिर का निर्माण होने के बाद, उसने इसे स्थानांतरित करने का फैसला किया, लेकिन मूर्ति हिली ही नहीं। इस प्रकार, भगवान विष्णु की एक मूर्ति को गर्भगृह में रखा गया था।
  • मंदिर की वास्तुकला वास्तव में अद्भुत है क्योंकि यह एक बहु-मंजिला महल जैसा दिखता है, जिसमें मेहराबदार प्रवेश द्वार, एक मुख्य मीनार है और चारों ओर से वह बंद है।
  • मंदिर का बाहरी अलंकरण कमल के प्रतीक और धार्मिक महत्व के अन्य प्रतीकों के साथ किया गया है।
  • अब मंदिर भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण (एएसआई) के अंतर्गत आता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=चतुर्भुज_मंदिर,_ओरछा&oldid=660837" से लिया गया
<