स्वयं प्रकाश  

स्वयं प्रकाश
स्वयं प्रकाश
पूरा नाम स्वयं प्रकाश
जन्म 20 जनवरी, 1947
जन्म भूमि इंदौर, मध्य प्रदेश
मृत्यु 7 दिसम्बर, 2019
मृत्यु स्थान मुम्बई, महाराष्ट्र
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र हिंदी साहित्य
मुख्य रचनाएँ जलते जहाज पर, ज्योति रथ के सारथी, उत्तर जीवन कथा, बीच में विनय, 'ईंधन' और सूरज कब निकलेगा आदि।
शिक्षा एमए (हिंदी), पीएचडी (1980), मैकेनिकल इंजीनियरिंग
पुरस्कार-उपाधि राजस्थान साहित्य अकादमी, रांघेय राघव पुरस्कार, पहल सम्मान, सुभद्रा कुमारी चौहान पुरस्कार, विशिष्ट साहित्यकार सम्मान आदि।
प्रसिद्धि साहित्यकार, कहानीकार, उपन्यासकार
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी स्वयं प्रकाश को प्रेमचंद की परंपरा का महत्वपूर्ण कथाकार माना जाता है। इनकी कहानियों का अनुवाद रूसी भाषा में भी हो चुका है।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
स्वयं प्रकाश (अंग्रेज़ी: Swayam Prakash, जन्म- 20 जनवरी, 1947; मृत्यु- 7 दिसम्बर, 2019) हिंदी साहित्यकार थे। मुख्य रूप से उन्होंने एक कहानीकार के रूप में प्रसिद्धि पाई। उपन्यास तथा हिंदी की और भी कई विधाओं को उन्होंने अपनी कलम से समृद्ध बनाया। स्वयं प्रकाश के लिखे उपन्यास 'जलते जहाज पर' (1982), 'ज्योति रथ के सारथी' (1987), 'उत्तर जीवन कथा' (1993), 'बीच में विनय' (1994) और 'ईंधन' (2004) हैं। ‘सूरज कब निकलेगा’ राजस्थान के मारवाड़ इलाके में 70 के दशक में आई बाढ़ पर लिखी गयी कहानी है। राजस्थान स्वयं प्रकाश की कहानियों में अक्सर पाया जाता था।

परिचय

20 जनवरी, 1947 को इंदौर में जन्मे स्वयं प्रकाश अपनी कहानियों और उपन्यासों के लिये विख्यात थे। उन्होंने हिंदी से एमए किया था और साल 1980 में उन्हें पीएचडी की उपाधि मिली। इसके अलावा उन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री भी हासिल की थी। कहानी लेखन शुरू करने से पहले वह कविताएं लिखते थे और विभिन्न मंचों पर इनका पाठ भी किया करते थे। उन्होंने पांच उपन्यास लिखे जबकि उनके नौ कहानी संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं।

वरिष्ठ कथाकार स्वयं प्रकाश को प्रेमचंद की परंपरा का महत्वपूर्ण कथाकार माना जाता है। इनकी कहानियों का अनुवाद रूसी भाषा में भी हो चुका है। स्वयं प्रकाश 'हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड' में सतर्कता अधिकारी और हिंदी अधिकारी रहे थे। विगत लगभग दो दशकों से वह भोपाल में रह रहे थे। प्रगतिशील लेखक संघ की मुखपत्रिका ‘वसुधा’ और बच्चों की चर्चित पत्रिका ‘चकमक’ के संपादक रहे स्वयं प्रकाश के एक दर्जन से अधिक कहानी संग्रह और पांच उपन्यास प्रकाशित हुए थे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिंदी के प्रसिद्ध कथाकार स्वयं प्रकाश का निधन (हिंदी) thewirehindi.com। अभिगमन तिथि: 29 अगस्त, 2020।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=स्वयं_प्रकाश&oldid=649388" से लिया गया