विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस  

विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस
विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस
विवरण 'विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस' आत्महत्या की बढ़ती प्रवृत्ति पर रोकथाम लगाने एवं इस समस्या के प्रति लोगों में जागरुकरता लाने के उद्देश्य से शुरू किया गया है।
तिथि 10 सितंबर
शुरुआत 2003 से
उद्देश्य मानसिक स्वास्थ के प्रति जागरुकता फैलाना और आत्महत्या के बढ़ते मामलों को रोकना।
थीम (2020) 'वॉकिंग टुगेदर टू प्रिवेंट सुसाइड' (आत्महत्या की रोकथाम के लिए साथ काम करना है)
अन्य जानकारी विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, हर 40 सेकेंड में एक व्यक्ति आत्महत्या करता है। एक साल में करीब 8 लाख लोग आत्महत्या कर लेते हैं।
विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस (अंग्रेज़ी: World Suicide Prevention Day) प्रत्येक वर्ष 10 सितंबर मनाया जाता है। आजकल लोगों में अवसाद लगातार बढ़ रहा है, इसी वजह से वे आत्महत्या कर लेते हैं। इस मामले में युवाओं की संख्या सर्वाधिक है, जिनके कंधों पर किसी भी देश का भविष्य टिका होता है। पिछले कुछ सालों में भारत ही नहीं दुनिया भर में खुदकुशी की घटनाएं तेजी से बढ़ी हैं। कोरोना के संकट काल में आत्महत्या का प्रतिशत लगातार बढ़ रहा है। लोगों में हताशा और निराशा बढ़ रही है। 'इंटरनेशनल एसोसिएशन फॉर सुसाइड प्रिवेंशन' (IASP) हर साल 'विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस' का आयोजन करती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, हर 40 सेकेंड में एक व्यक्ति आत्महत्या करता है। एक साल में करीब 8 लाख लोग आत्महत्या कर लेते हैं। जबकि सुसाइड की कोशिश करने वालों का आंकड़ा इससे भी ज्यादा है।

परिचय

जब कोई बहुत ज्यादा बुरी मानसिक स्थिति से गुजरता है तो एकदम अवसाद में चला जाता है, इसी अवसाद की वजह से लोग ज्यादातर युवा आत्महत्या कर लेते हैं। इससे उनके परिवार पर बहुत नकारात्मक असर पड़ता है। हर साल 10 सितंबर को 'वर्ल्ज सुसाइड प्रिवेंशन डे' (विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस) मनाया जाता है। इसे लोगों में मानसिक स्वास्थ के प्रति जागरुकता फैलाने और आत्महत्या के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए मनाया जाता है। आत्महत्या के बढ़ते मामलो को रोकने के लिए इसे 2003 में शुरू किया गया था। इसकी शुरुआत आईएएसपी (इंटरनेशनल असोसिएशन ऑफ सुसाइड प्रिवेंशन) द्वारा की गई थी।

जीवन इस संसार में सबसे अनमोल माना गया है। हिन्दू पुराणों व शास्त्रों में स्पष्ट लिखा है कि "जन्म हुआ है तो मृत्यु भी निश्चित है। सभी इंसानों के जन्म और मृत्यु का समय निश्चित है। लेकिन जब कोई इस निश्चित वक्त के विरुद्ध जाकर शरीर छोड़ने की सोचता है तो वह आत्महत्या कही जाती है। इसके अनेक कारण हो सकते हैं।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस: तनाव किसलिए, आपकी सबसे प्यारी चीज आप खुद (हिंदी) jagran.com। अभिगमन तिथि: 12 सितंबर, 2020।
  2. जानें क्यों मनाया जाता है विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस (हिंदी) india.com। अभिगमन तिथि: 12 सितंबर, 2020।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=विश्व_आत्महत्या_रोकथाम_दिवस&oldid=649930" से लिया गया