अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस  

अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस
अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस
विवरण 'अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस' सेंट जेरोम के पर्व पर मनाया जाता है, जो बाइबिल के अनुवादक थे और जिन्हें 'अनुवादकों का संरक्षक संत' माना जाता है।
तिथि 30 सितंबर
शुरुआत 24 मई, 2017
उद्देश्य देशों को निकट लाना, संवाद में सहायता करना तथा सहयोग के लिए अनुवाद की महत्ता को समझाना। यह विश्व शांति तथा विकास में काफ़ी योगदान देता है।
अन्य जानकारी पहले अनुवाद को सिर्फ भाषायी गतिविधि समझा जाता था, लेकिन बीसवीं शताब्दी के अंतिम दशक से अनुवाद के क्षेत्र में एक प्रस्थान बिंदु आया है जिसमें अनुवाद को महज भाषाई गतिविधि न समझ कर सांस्कृतिक तथा राष्ट्रीय महत्व का कार्य समझा जाने लगा है।
अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस (अंग्रेज़ी: International Translation Day) हर साल 30 सितंबर को सेंट जेरोम के पर्व पर मनाया जाता है। सेंट जेरोम बाइबिल के अनुवादक थे जिन्हें 'अनुवादकों का संरक्षक संत' माना जाता है। 1953 में स्थापित होने के बाद से यह दिवस एफआईटी (अंतर्राष्ट्रीय अनुवादकों की अंतर्राष्ट्रीय संघ) द्वारा प्रोत्साहित किया गया है। 1991 में एफआईटी ने आधिकारिक तौर पर मान्यता प्राप्त अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस का विचार शुरू किया, ताकि दुनिया भर में अनुवाद समुदाय की एकता को बढ़ावा मिले। यह दिवस विभिन्न देशों में अनुवाद कार्य का महत्व प्रदर्शित करने के लिए मनाया जाता है। भूमंडलीकरण की प्रगति के युग में अनुवाद कार्य तेज़ीसे बढ़ रहा है।


संयुक्त राष्ट्र द्वारा इस दिन उन सभी लोगों को सम्मानित किया जाता है जो अंतर्राष्ट्रीय कूटनीति में संवाद में भाषा विशेषज्ञ के रूप में कार्य करके विकास तथा वैश्विक शान्ति को बढ़ावा देते हैं। अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस द्वारा साहित्यिक व वैज्ञानिक कार्य के शुद्ध तथा स्पष्ट अनुवाद कार्य को भी अति-आवश्यक माना जाता है।

पृष्ठभूमि

अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 24 मई, 2017 में प्रस्ताव 71/288 को पारित करके स्थापित किया था। देशों को निकट लाने, संवाद में सहायता करने तथा सहयोग के लिए अनुवाद की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है, यह विश्व शांति तथा विकास में काफी योगदान देता है। बाइबिल के अनुवादक सेंट जेरोम के त्यौहार के कारण 30 सितम्बर को अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस चुना गया। सेंट जेरोम ने बाइबिल का अनुवाद किया था, उन्हें अनुवादकों का संरक्षक माना जाता है।[1]

जिस प्रकार संयुक्त राष्ट्र के अन्य दिवस महत्वपूर्ण होते हैं, उसी प्रकार अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस भी बहुत महत्त्वपूर्ण दिवस है क्योंकि इस दिवस के माध्यम से सभी देशों की भाषाओं में हो रहे अनुवाद कार्यों एवं अनुवादकों, भाषांतरकारों, दुभाषियों तथा भाषा एवं अनुवाद के क्षेत्र में कार्यरत व्यक्तियों और संस्थाओं की भूमिका को महत्व दिया जा सके और दुनियाभर के अनुवाद समुदाय के बीच एकता को बढ़ावा दिया जा सके। आज के दिन भारत सहित दुनियाभर के विश्वविद्यालयों, शिक्षण संस्थानों और अनुवाद सेवी संस्थाओं में अनुवाद से संबंधित विभिन्न संवाद, परिसंवाद, सेमिनार और कार्यशालाओं का आयोजन किया जाता है और अनुवाद की स्थिति, परिस्थिति, महत्व, तकनीक, संभावनाओं, इतिहास एवं भविष्य पर सार्थक चर्चा की जाती है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अंतर्राष्ट्रीय अनुवाद दिवस : 30 सितम्बर (हिंदी) currentaffairs.gktoday.in। अभिगमन तिथि: 3 अक्टूबर, 2020।
  2. अंतर्राष्ट्रीय अनुवाद दिवस विशेष-जिन्हें हम हिन्दी समझते है, वह अंग्रेजी के शब्द (हिंदी) patrika.com। अभिगमन तिथि: 3 अक्टूबर, 2020।
  3. देशज भाषाओं के संरक्षण का संदेश देता है अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस (हिंदी) livehindustan.com। अभिगमन तिथि: 3 अक्टूबर, 2020।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अंतरराष्ट्रीय_अनुवाद_दिवस&oldid=657390" से लिया गया
<