माई मेरो मोहनमें मन हारूं -मीरां  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
माई मेरो मोहनमें मन हारूं -मीरां
मीरांबाई
कवि मीरांबाई
जन्म 1498
जन्म स्थान मेरता, राजस्थान
मृत्यु 1547
मुख्य रचनाएँ बरसी का मायरा, गीत गोविंद टीका, राग गोविंद, राग सोरठ के पद
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
मीरांबाई की रचनाएँ
  • माई मेरो मोहनमें मन हारूं -मीरां

माई मेरो मोहनमें मन हारूं॥ध्रु०॥
कांह करुं कीत जाऊं सजनी। प्रान पुरससु बरयो॥1॥
हूं जल भरने जातथी सजनी। कलस माथे धरयो॥2॥
सावरीसी कीसोर मूरत। मुरलीमें कछु टोनो करयो॥3॥
लोकलाज बिसार डारी। तबही कारज सरयो॥4॥
दास मीरा लाल गिरिधर। छान ये बर बरयो॥5॥

संबंधित लेख


वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=माई_मेरो_मोहनमें_मन_हारूं_-मीरां&oldid=508601" से लिया गया