नरेश मेहता  

नरेश मेहता
नरेश मेहता
पूरा नाम नरेश मेहता
जन्म 15 फ़रवरी 1922
जन्म भूमि शाजापुर, मध्य प्रदेश
कर्म भूमि भारत
मुख्य रचनाएँ 'अरण्या', 'उत्तर कथा', 'चैत्या', 'दो एकान्त', 'प्रवाद पर्व', 'बोलने दो चीड़ को' आदि।
भाषा हिंदी
विद्यालय बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय
शिक्षा एम.ए.
पुरस्कार-उपाधि ज्ञानपीठ पुरस्कार (1992), साहित्य अकादमी पुरस्कार (1988)
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी इन्होंने इन्दौर से प्रकाशित 'चौथा संसार' हिन्दी दैनिक का सम्पादन भी किया।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

नरेश मेहता (अंग्रेज़ी: Naresh Mehta, जन्म: 15 फ़रवरी, 1922) ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित हिन्दी के यशस्वी कवि एवं उन शीर्षस्थ लेखकों में से हैं, जो भारतीयता की अपनी गहरी दृष्टि के लिए जाने जाते हैं। नरेश मेहता ने आधुनिक कविता को नयी व्यंजना के साथ नया आयाम दिया। नरेश मेहता ने इन्दौर से प्रकाशित 'चौथा संसार' हिन्दी दैनिक का सम्पादन भी किया।

जीवन परिचय

नरेश मेहता का जन्म सन् 15 फ़रवरी, 1922 ई. में मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र के शाजापुर कस्बे में हुआ। बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से आपने एम.ए. किया। आपने आल इण्डिया रेडियो इलाहाबाद में कार्यक्रम अधिकारी के रूप में कार्य किया। नरेश मेहता दूसरा सप्तक के प्रमुख कवि के रूप में प्रसिद्ध हैं। सन् 2000 ई. में इनका निधन हो गया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नरेश_मेहता&oldid=619628" से लिया गया