दिनशा वाचा  

(दिनशा इदुलजी वाचा से पुनर्निर्देशित)


दिनशा वाचा विषय सूची

दिनशा वाचा    परिचय    राजनीतिक जीवन

दिनशा वाचा
दिनशा इडलजी वाचा
पूरा नाम दिनशा इडलजी वाचा
अन्य नाम दिनशा वाचा
जन्म 1844
मृत्यु 1936
नागरिकता भारतीय
पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
संबंधित लेख दादाभाई नौरोजी, फ़िरोजशाह मेहता, मुंबई, सुरेंद्रनाथ बनर्जी
अन्य जानकारी दिनशा इडलजी वाचा भारत में ब्रिटिश शासन के विशेषत: ब्रिटेन द्वारा भारत के आर्थिक शोषण के अत्यंत कटु आलोचक थे। वे इस विषय के विभिन्न पहलुओं पर लेख लिखकर और भाषण देकर लोगों का ध्यान आकर्षित करते थे।
अद्यतन‎ 04:42, 4 जून 2017 (IST)

दिनशा इडलजी वाचा (अंग्रेज़ी Dinshaw Edulji Wacha; जन्म- 1844; मृत्यु -1936) आर्थिक विशेषज्ञ और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना में प्रमुख योगदान देने वाले मुंबई के तीन मुख्य पारसी नेताओं में से एक थे। प्रारंभ से ही कांग्रेस से जुड़े हुए दिनशा 13 वर्ष तक इस संगठन के महामंत्री रहें और 1901 ई. में कोलकाता कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए। फ़िरोजशाह मेहता तथा दादा भाई नौरोजी के सहयोग से सर दिनशा वाचा ने भारत की ग़रीबी और ग़रीब जनता से सरकारी करों के रूप में वसूल किए गए धन के अपव्यय के विरुद्ध स्वदेश में और शासक देश ब्रिटेन में लोकमत जगाने के लिए अथक परिश्रम किया।

संक्षिप्त परिचय

दिनशा इडलजी वाचा का जन्म 1844 में हुआ था। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना में प्रमुख योगदान देने वाले मुंबई के तीन मुख्य पारसी नेताओं में से एक थे। अपने अन्य दोनों साथी पारसी नेताओं, फ़िरोजशाह मेहता तथा दादा भाई नौरोजी के सहयोग से सर दिनशा वाचा ने भारत की ग़रीबी और ग़रीब जनता से सरकारी करों के रूप में वसूल किए गए धन के अपव्यय के विरुद्ध स्वदेश में और शासक देश ब्रिटेन में लोकमत जगाने के लिए अथक परिश्रम किया। दिनशा आर्थिक और वित्तीय मामलों के विशेषज्ञ थे और इन विषयों में उनकी सूझ बड़ी ही पैनी थी।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=दिनशा_वाचा&oldid=622762" से लिया गया