वृन्दावनदास ठाकुर  

वृन्दावनदास ठाकुर
वृन्दावनदास ठाकुर
पूरा नाम वृन्दावनदास ठाकुर
जन्म 1507 ई.
जन्म भूमि नवद्वीप, पश्चिम बंगाल
मृत्यु 1589 ई.
अभिभावक बैकुंठनाथ ठाकुर तथा नारायणी देवी
गुरु श्रीमन नित्यानंद प्रभु
कर्म भूमि पश्चिम बंगाल, भारत
मुख्य रचनाएँ 'चैतन्य भागवत', 'श्रीनित्यानंद चरितामृत', 'आनंदलहरी', 'तत्वसार', 'तत्वविलास', 'भक्तिचिंतामणि'।
भाषा बांग्ला
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख चैतन्य महाप्रभु, गौड़ीय सम्प्रदाय, चैतन्य चरितामृत, चैतन्य भागवत
अन्य जानकारी वृन्दावनदास ठाकुर ने 'चैतन्य मंगल' ग्रंथ लिखा है, जो बाद में 'चैतन्य भागवत' नाम से प्रसिद्ध हुआ। कृष्णदास कविराज ने अपने ग्रंथ 'चैतन्य चरितामृत' में इसकी बड़ी प्रशंसा की है।

वृन्दावनदास ठाकुर (अंग्रेज़ी: Vrindavana Dasa Thakura, जन्म: 1507 ई., पश्चिम बंगाल; मृत्यु: 1589 ई.) बंगला भाषा में 'चैतन्य भागवत' नामक प्रसिद्ध ग्रंथ के रचयिता थे। यह ग्रन्थ चैतन्य महाप्रभु का जीवनचरित है। यह बंगला भाषा का आदि काव्य ग्रंथ माना जाता है। वृन्दावनदास जी श्री नित्यानंद प्रभु के मन्त्र शिष्य थे। इन्होंने 'चैतन्य भागवत' में भगवान चैतन्य महाप्रभु की विभिन्न लीलाओं का विस्तारपूर्वक वर्णन किया है।

जन्म

श्री हट्टनिवासी श्रीजलधर वैदिक पण्डित अपनी पत्नि सहित पश्चिम बंगाल के नवद्वीप में आकर बस गये थे। उनके पाँच पुत्र थे- नलिन, श्रीवास, श्रीराम, श्रीपति एवं श्रीनिधि। नलिन एक कन्‍या नारायणी के पिता बनने के बाद कुमारहट्ट में संसार से विदा हो गए। उनके छोटे भाई श्रीवास पण्डित ने नारायणी एवं उनकी माता को अपनी देख-रेख में नवद्वीप में रखा। नारायणी की माता का भी कुछ दिनों में ही परलोक गमन हो गया।

यथा समय यौवनावस्‍था प्राप्‍त होने पर श्रीवास पण्डित ने नारायणी का विवाह कुमारहट्ट निवासी एक कुलीन विप्र वैकुण्ठनाथ ठाकुर के साथ कर दिया। कुछ समय पश्चात् नारायणी देवी गर्भवती हुई। वह चार-पाँच मास की गर्भवती थी कि तभी देव इच्छा से पति वैकुण्ठनाथ का वैकुण्‍ठगमन हो गया। नारायणी गर्भावस्‍था में ही अनाथिनी या विधवा हो गयी। यथेष्ठ समय नारायणी देवी ने कुमारहट्ट में एक पुत्र को जन्‍म दिया। जन्‍म समय ठीक निश्चित न होने पर भी अनुमानत: शकाब्द 1441-42 (सन 1516-1520 ई.) निर्धारित होता है।[1]

माता की विपदा

बाल्‍यकाल से ही वृन्‍दावनदास में असाधारण गुण दीखने लगे थे-

"भाग्‍यवान् बिरवानके होत चीकने पात।"

अनाथिनी नारायणी पुत्र को लेकर दरिद्र ससुराल में विपदा में पड़ गयी। वह बड़े कष्ट से दिन काट रही थी। नारायणी, जिसके परम सौभाग्‍यवान पुत्र 'चैतन्य भागवत' के रचयिता व्‍यासावतार वृन्‍दावनदास ठाकुर हैं। वृन्‍दावनदास जी ने अनेक स्‍थलों पर अपनी माता नारायणी देवी की बात कही है, किन्‍तु न तो उनका लक्ष्‍य अपनी माता के महिमा प्रकाश में है और न ही निजी महिमा-प्रकाश का। एकमात्र महाप्रभु की अहैतुक असीम कृपा का ही विज्ञापन उनका ध्‍येय है। वस्‍तुत: नारायणी देवी तो परम स्‍तुत्‍या परम वन्‍दनीया हैं ही, क्‍योंकि व्रजलीला में यह अम्बिका की बहन किलिम्बिका थी और वहाँ यह नित्‍य कृष्ण का उच्छिष्‍ट भोजन करती थी-

अम्बिकाया: स्‍वसा यासीन्नाम्‍नी श्रील-किलिम्बिका। कृष्‍णोच्छिषटं प्रभुञ्जाना सेयं नारायणी मता॥[2]

श्रीवास, श्रीराम, श्रीपति एवं श्रीनिधि तो नवद्वीप लीला में महाप्रभु के मुख्‍य संगी थे, क्‍योंकि नारायणी के पिता नलिन महाप्रभु लीला-प्रकाश से पहले ही पधार चुके थे, इसलिए उनका नाम चैतन्‍य चरित्र ग्रन्‍थों में कहीं नहीं देखा-सुना जाता। नवद्वीप के अर्न्‍तगत गंगा के पश्चिम पार मामगाछि-मोदद्रुमद्वीप महाप्रभु के परमभक्‍त श्री वासुदेव दत्त ने एक मन्दिर स्‍थापित किया था। वह स्‍वयं कांचड़ा पाड़ा ग्राम में रहते थे। महाप्रभु की नवद्वीप लीला के समय प्रभु के निकट वास करने के लिए उन्‍होंने मामगच्‍छी में देव सेवा स्‍थापित की थी, किन्‍तु बाद मे प्रभु के संन्‍यास ग्रहण करने के बाद नवद्वीप न आ-जा सके। श्रीवास पण्डित आदि भी प्रभु की सन्‍यास लीला के बाद कुमारहट्ट में आकर रहने लगे थे। श्रीवास के साथ वासुदेव दत्त की परम मित्रता थी। अत: उस नाते से दुखिया नारायणी देवी को उन्‍होंने उस मन्दिर की सेवा का भार सौंप दिया। नारायणी पुत्र वृन्‍दावनदास के साथ मामगच्‍छी में रहने लगी। आज तक वहाँ की "नारायणी-सेवा" प्रसिद्ध है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 1.3 श्री चैतन्यभागवत |प्रकाशक: श्रीहरिनाम संकीर्तन मण्डल, श्रीधाम वृन्दावन |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |संपादन: श्री श्यामदास |पृष्ठ संख्या: 6,8,9 |
  2. गौरगणेददेशदीपिका, 43
  3. श्री चैतन्य भागवत 3|6|121
  4. श्रीगौरगणोद्देशदीपिका, 106
  5. श्रीकृष्ण की प्रेमपूर्वक सेवा करना ही भक्ति है (हिन्दी) सबके गुरु (ब्लॉग)। अभिगमन तिथि: 16 मई, 2015।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=वृन्दावनदास_ठाकुर&oldid=611594" से लिया गया