शारदा देवी  

शारदा देवी (जन्म- 22 सितंबर, 1853, मृत्यु- 20 जुलाई, 1920) रामकृष्ण परमहंस की जीवन संगिनी थीं। 6 वर्ष की शारदामणि का 23 वर्ष के रामकृष्ण के साथ विवाह हुआ था। कुछ वर्ष बाद रामकृष्ण परमहंस अपनी पत्नी शारदा देवी को दिव्य माता की प्रतिमूर्ति मानने लगे।

परिचय

रामकृष्ण परमहंस की जीवन संगिनी शारदा देवी का जन्म 22 सितंबर, 1853 ई. को हुआ था। उनका बचपन का नाम शारदामणि था। उनके पिता रामचंद्र मुखोपाध्याय पुरोहिताई करने वाले साधारण ब्राह्मण थे। रामकृष्ण परमहंस कोलकाता के दक्षिणेश्वर मंदिर में भक्ति में इतने मग्न रहते थे कि लोग उन्हें पागल समझने लगे। उनकी वृद्ध माता चंद्रमणि पुत्र की यह दशा देखकर चिंतित हुईं। वह यह सोच कर उन्हें अपने गांव कामारपुकुर ले आईं कि विवाह हो जाने से पुत्र की मानसिक स्थिति बदल जाएगी।[1]

वैवाहिक जीवन

शारदा देवी का जिस समय विवाह हुआ था, उस वक्त शारदा देवी की उम्र 6 वर्ष और रामकृष्ण परमहंस की 23 वर्ष थी। 14 वर्ष की उम्र में शारदा का द्विरागमन हुआ और वे अपनी ससुराल गईं। रामकृष्ण ज्यादातर दक्षिणेश्वर मंदिर में भक्ति में ही लीन रहते थे। शारदा वापिस अपने पिता के गांव जयरामबारी आ जातीं थीं। किसी तरह 4 वर्ष गुजर गए। एक बार शारदा देवी रामकृष्ण की अस्वस्थता का समाचार सुनकर सीधे दक्षिणेश्वर मंदिर पहुंच गईं। वे स्वयं भी बीमार थीं। स्वामीजी ने उनकी सेवा सुश्रुषा की और शारदा के रहने की व्यवस्था अलग कमरे में की गई।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 836 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शारदा_देवी&oldid=633188" से लिया गया