क्या करता है, वह क्या करता है -बुल्ले शाह  

क्या करता है, वह क्या करता है -बुल्ले शाह
बुल्ले शाह
कवि बुल्ले शाह
जन्म 1680 ई.
जन्म स्थान गिलानियाँ उच्च, वर्तमान पाकिस्तान
मृत्यु 1758 ई.
मुख्य रचनाएँ बुल्ले नूँ समझावन आँईयाँ, अब हम गुम हुए, किते चोर बने किते काज़ी हो
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
बुल्ले शाह की रचनाएँ
  • क्या करता है, वह क्या करता है -बुल्ले शाह

की करदा की करदा वो
पुच्छो तो दिलबर की करदा वो - रहाओ

इक से घर विच वसदियाँ रसदियाँ,
नहीं बणदा विच पड़दा वो?।।1।।

व्वाहदत दा दरियायो सत‍राणा,
कोइ डुबदा कोइ तरदा वो।।2।।

बुल्ला शाह नूँ आण मिलवो
माहरम है इस घर दा वो।।3।।


हिन्दी अनुवाद

क्या करता है, वह क्या करता है।
पूछो दिलबर से वह क्या करता है - विराम

जब एक ही घर में रहता है,
फिर पर्दा क्या करता है? ।।1।।

वेगवान‍ अद्वैत नदी में,
कोई डूबता कोई तरता है।।2।।

प्रभु, बुल्ले शाह से आन मिलो,
भेदी है इस घर का वो।।3।।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=क्या_करता_है,_वह_क्या_करता_है_-बुल्ले_शाह&oldid=585073" से लिया गया