सुनामी स्मारक, कन्याकुमारी  

सुनामी स्मारक, कन्याकुमारी

सुनामी स्मारक तमिलनाडु राज्य के कन्याकुमारी नगर में स्थित एक स्मारक है जो स्टील का बना और इसकी ऊँचाई लगभग 16 फुट है। इस में जो दो हाथ बने हैं उनमें एक से सागर की लहर को रोकते हुए और दूसरे हाथ में आशा का दीपक जलाये रखते हुए दिखाया गया है। इस के डिजाईन को बनाने वाले बी. कनगराज हैं।

सुनामी का अर्थ

सुनामी का अर्थ है समुद्री तूफान। यह एक प्राकृतिक आपदा है। सूनामी जापानी शब्द है जो सू और नामी से मिल कर बना है। सू का अर्थ है समुद्र तट और नामी का अर्थ है लहरें। समुद्र के भीतर अचानक जब बड़ी तेज़ हलचल होने लगती है तो उसमें उफान उठता है। सैकड़ों किलोमीटर चौड़ाई वाली लहरें जब तट के पास आती हैं, तब लहरों का निचला हिस्सा ज़मीन को छूने लगता है। इनकी गति कम हो जाती है और ऊँचाई बढ़ जाती है। ऐसी स्थिति में जब ये तट से टक्कर मारती हैं तो तबाही होती है। उसके रास्ते में पेड़, जंगल या इमारतें कुछ भी आए, सब को तबाह कर देती है। अक्सर समुद्री भूकम्पों की वजह से ये तूफ़ान पैदा होते हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. सुनामी स्मारक ,कन्याकुमारी (हिन्दी) भारत दर्शन। अभिगमन तिथि: 22 दिसम्बर, 2013।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सुनामी_स्मारक,_कन्याकुमारी&oldid=430257" से लिया गया