शांगपाणि मन्दिर  

शांगपाणि मन्दिर कुम्भकोणम, तमिलनाडु (दक्षिण भारत) के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है। यह एक विशाल और भव्य मन्दिर है, जिसमें स्वर्ण से मण्डित गरुड़ स्तम्भ है। यह स्तम्भ देखने में बहुत ही सुंदर प्रतीत होता है। मन्दिर के घेरे में अनेक छोटे-छोटे मन्दिर तथा मण्डप स्थापित हैं।

कथा

शांगपाणि मन्दिर से संबंधित एक कथा प्रचलित है- "भृगु ऋषि द्वारा भगवान विष्णु की छाती पर लात मारने और क्षमा न माँगने पर भी जब भगवान ने भृगु को कोई दण्ड नहीं दिया, तब लक्ष्मी भगवान नारायण से रूठ गयीं। उन्होंने हेम नामक ऋषि के घर में कन्या रूप में जन्म लिया। इस पर भगवान विष्णु लक्ष्मी का वियोग सह नहीं सके और वह भी यहाँ पर अवतरित हुए तथा ऋषि कन्या यानी की लक्ष्मी जी से विवाह किया। तब से शांगपाणि और लक्ष्मीजी यहाँ स्थित हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शांगपाणि_मन्दिर&oldid=571747" से लिया गया