जारुधि पर्वत  

Disamb2.jpg जारुधि एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- जारुधि (बहुविकल्पी)

जारुधि पर्वत का उल्लेख विष्णु पुराण में हुआ है, जिसके अनुसार यह मेरु पर्वत के उत्तर में स्थित एक पर्वत है।[1]

  • जारुधि पर्वत पश्चिम की ओर समुद्र तक विस्तीर्ण था-
'त्रिश्रृंगो जारुधिश्चैव उत्तरौवर्षपर्वतौ, पूर्व पश्चायतवेतावर्णवान्तर्व्यवस्थतौ'[2]
  • उपर्युक्त वर्णन की वास्तविकता को यदि स्वीकार करें तो यह पर्वत वर्तमान 'यूराल' (रूस) की श्रेणी का कोई भाग हो सकता है, जो 'कश्यप सागर'[3] तक फैली हुई है।

विष्णु पुराण[4] में जारुधि को मेरु का पश्चिमी केसराचल भी माना गया है-

'शिखिवासा: सवैडूर्य: कपिलो गंधमादन:, जारुधिप्रमुखास्तद्वत्पश्चिमे केसराचला:।'


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 363 |
  2. विष्णु पुराण 2, 2, 23.
  3. कैस्पियन सागर
  4. विष्णु पुराण 2, 2, 28

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जारुधि_पर्वत&oldid=492654" से लिया गया