हंस पर्वत  

Disamb2.jpg हंस एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- हंस (बहुविकल्पी)

हंस पर्वत विष्णुपुराण के अनुसार मेरु पर्वत के उत्तर की ओर स्थित है-

'शंख कूठोऽष ऋषभो हंसो नागस्तयापरः, कालंजाद्याश्चतथा उत्तरे केसराचलाः’[1]
  • विष्णुपुराण में ही जठर देश का उल्लेख हुआ है, जहाँ कहा गया है कि-
'मेरोरनन्तरांगेषु जठरादिष्ववस्थिता: शंखकूटाऽथ ऋषभो हंसो नागस्तथापर: कालंजाद्याश्च तथा उत्तरकेसराचला:'

अर्थात "मेरु के अति समीप और जठर आदि देशों में स्थित शंखकूट, ऋषभ, हंस, नाग और कलंज आदि पर्वत उत्तर दिशा के केसरांचल हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली से पेज संख्या 1005| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार
  1. विष्णुपुराण 2,2,29.

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हंस_पर्वत&oldid=429511" से लिया गया