हरिश्चंद्र पर्वत शृंखला  

  • हरिश्चंद्र पर्वत शृंखला पश्चिम-मध्य भारत के पश्चिमी घाट में पूर्व की ओर विस्तृत पहाड़ियाँ है।
  • हरिश्चंद्र पर्वत शृंखला पश्चिमोत्तर दक्कन के पठार में गोदावरी और भीमा नदियों के बीच स्थित है।
  • लगभग 600 मीटर की औसत ऊँचाई वाली इसकी चोटियाँ दक्षिण-पूर्व की ओर घटती जाती हैं और महाराष्ट्र राज्य का हिस्सा बन जाती है।
  • बेसॉल्टयुक्त लावा से बनी हरिश्चंद्र पर्वत शृंखला की चोटियाँ समतल हैं और पहाड़ियों की ढलान लावा के बहने की दिशा में अपक्षयित होकर सीढ़ीदार हो गई हैं।
  • हरिश्चंद्र पर्वत शृंखला पश्चिमी घाट में मिलने तक ऊँची होती गई हैं। इसकी सबसे ऊंची चोटी हरिश्चंद्रगढ़ के नाम पर ही इस पर्वत शृंखला का नामकरण हुआ है।
  • इन पहाड़ों की ढलान पर सागौन[1] सहित इमारती लकड़ी के वन पाए जाते हैं। साथ ही झाड़-झंखाड़ों में बेंत, बांस, ऊँची बेलें और फ़र्न शामिल हैं।
  • अहमदनगर इस क्षेत्र का प्रमुख नगर है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अंगूर की बेलों से लदे हुए

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हरिश्चंद्र_पर्वत_शृंखला&oldid=380204" से लिया गया