श्वेतगिरि  

श्वेतगिरि का उल्लेख हिन्दू धार्मिक ग्रंथ महाभारत, वनपर्व में हुआ है-

'श्वेतंगिरिं प्रवेक्ष्यामो मंदरं चैव पर्वतम्, यत्रमणिवरो: यक्षः कुबेरश्चैव यक्षराट्।'[1]
  1. नील
  2. श्वेत
  3. श्रंगी
'नीलः श्वेतश्च श्रंगी च उत्तरे वर्षपर्वताः।'
  • यह श्वेतवर्ष का मुख्य पर्वत है।
  • 'महाभारत' का 'श्वेतगिरि' तथा 'विष्णुपुराण' का 'श्वेत' एक ही जान पड़ते हैं।
  • श्वेतगिरि का अभिज्ञान कुछ विद्वान हिमालय में स्थित 'धवलगिरि' या 'धौलागिरि' से भी करते हैं।[3]
  • श्वेतगिरि को महाभारत में 'श्वेतपर्वत' भी कहा गया है। 'मत्स्यपुराण' में दैत्य-दानवों को श्वेतपर्वत का निवासी बताया गया है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत, वनपर्व 139,5
  2. वनपर्व 139, 11
  3. 3.0 3.1 ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 926 |
  4. विष्णुपुराण 2, 2, 10

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=श्वेतगिरि&oldid=503247" से लिया गया