गौरीशिखर  

गौरीशिखर हिमालय पर्वत का एक शिखर है, जिसका उल्लेख महाभारत, वनपर्व के अंतर्गत तीर्थयात्रा प्रसंग में हुआ है-

'ततो गच्छेत धर्मज्ञ: तीर्थसेवनतत्पर: शिखरं वै महादेव्या गौर्या स्त्रैलोक्यविश्रुतम्।"[1]
  • इसका उल्लेख हिमालय पर स्थित 'पितामह सर'[2] के पश्चात् है।
  • गौरीशिखर को इस उल्लेख में महादेव-पार्वती के नाम से प्रसिद्ध बताया गया है।
  • इस शिखर पर[3] 'स्तनकुंड' नामक सरोवर का भी उल्लेख है-
'समासाद्य नरश्रेष्ठ स्तनकुंडेषु संविशेत्।'
  • गौरीशिखर प्रसिद्ध 'गौरीशंकर' की चोटी जान पड़ती है।[4]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत, वनपर्व 84, 151.
  2. शायद मानसरोवर; यहाँ से ब्रह्मपुत्र नदी निकलती है। पितापह=ब्रह्मा
  3. महाभारत, वनपर्व 84, 151 में
  4. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 310 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=गौरीशिखर&oldid=595858" से लिया गया