अंजन पर्वत  

अंजन पर्वत वराहपुराण[1]में उल्लिखित संभवत: पंजाब की सुलेमान-गिरिशृंखला है।[2]

  • वायुपुराण के अनुसार यह एक पहाड़ी का नाम है, जो सितोद सर के पश्चिम में स्थित है।[3] यहाँ उरगों का निवास कहा गया है।[4] यह हाथियों के जगंल के नाम से विख्यात है।[5]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. वराहपुराण 80
  2. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 04 |
  3. (वायु पुराण 36.28)
  4. (वायु पुराण 36.28)
  5. (वायु पुराण 39.49.)

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अंजन_पर्वत&oldid=628468" से लिया गया