हिंगलाज शक्तिपीठ  

हिंगलाज शक्तिपीठ
हिंगलाज शक्तिपीठ
वर्णन पाकिस्तान स्थित 'हिंगलाज शक्तिपीठ' अज्ञात 108 एवं ज्ञात 51 पीठों में से एक है। इसका हिन्दू धर्म में बड़ा ही महत्त्व है।
स्थान हिंगलाज, बलूचिस्तान, पाकिस्तान
देवी-देवता सती 'हिंगुला' तथा शिव 'भीमलोचन'।
संबंधित लेख शक्तिपीठ, सती
पौराणिक मान्यता मान्यतानुसार यह माना जाता है कि इस स्थान पर देवी सती का 'ब्रह्मरंध्र' गिरा था।
अन्य जानकारी हिंगलाज की यात्रा कराची से प्रारंभ होती है। कराची से लगभग 10 किलोमीटर दूर हॉव नदी है। वस्तुतः मुख्य यात्रा वहीं से होती है। हिंगलाज जाने के पहले लासबेला में माता की मूर्ति का दर्शन करना होता है।

हिंगलाज शक्तिपीठ 51 शक्तिपीठों में से एक है। हिन्दू धर्म के पुराणों के अनुसार जहाँ-जहाँ सती के अंग के टुकड़े, धारण किए वस्त्र या आभूषण गिरे, वहाँ-वहाँ शक्तिपीठ अस्तित्व में आये। ये अत्यंत पावन तीर्थस्थान कहलाये। ये तीर्थ पूरे भारतीय उपमहाद्वीप पर फैले हुए हैं। 'देवीपुराण' में 51 शक्तिपीठों का वर्णन है।

स्थिति

यह शक्तिपीठ 25.3° अक्षांश, 65.31° देशांतर के पूर्वमध्य, सिंधु नदी के मुहाने पर (हिंगोल नदी के तट पर) पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत के 'हिंगलाज' नामक स्थान पर, कराची से 144 किलोमीटर दूर उत्तर-पश्चिम में स्थित है। कराची से फ़ारस की खाड़ी की ओर जाते हुए मकरान तक जलमार्ग तथा आगे पैदल जाने पर 7वें मुकाम पर चंद्रकूप तीर्थ है। अधिकांश यात्रा मरुस्थल से होकर तय करनी पड़ती है, जो अत्यंत दुष्कर है। आगे 13वें मुकाम पर हिंगलाज है। यहीं एक गुफ़ा के अंदर जाने पर देवी का स्थान है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. तत्त्वचूड़ामणि; बृहन्नील तंत्र
  2. पौराणिक मान्यतानुसार पारद भगवान शिव का वीर्य है, जिसे वैद्यगण हिंगुल (हींग) से निकालते हैं तथा गंधक पार्वती का रज है। ये दोनों ही खनिज हैं। कल्याण: शक्ति उपासना अंक पृष्ठ 436

संबंधित लेख


सुव्यवस्थित लेख
और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हिंगलाज_शक्तिपीठ&oldid=616735" से लिया गया