चट्टल शक्तिपीठ  

चट्टल शक्तिपीठ 51 शक्तिपीठों में से एक है। हिन्दू धर्म के पुराणों के अनुसार जहां-जहां सती के अंग के टुकड़े, धारण किए वस्त्र या आभूषण गिरे, वहां-वहां शक्तिपीठ अस्तित्व में आये। ये अत्यंत पावन तीर्थस्थान कहलाये। ये तीर्थ पूरे भारतीय उपमहाद्वीप पर फैले हुए हैं। देवीपुराण में 51 शक्तिपीठों का वर्णन है।

  • देवी का यह पीठ बांग्लादेश में चटगाँव से 38 किलोमीटर दूर सीताकुण्ड स्टेशन के पास चंद्रशेखर पर्वत पर स्थित भवानी मंदिर है।
  • समुद्रतल से 350 मीटर की ऊँचाई पर यहाँ चंद्रशेखर शिव का भी मंदिर है।
  • यहाँ सती की "दाहिनी भुजा" का निपात हुआ था।
  • यहाँ की शक्ति "भवानी" तथा शिव "चंद्रशेखर" हैं।
  • यहीं पर पास में ही सीताकुण्ड, व्यासकुण्ड, सूर्यकुण्ड, ब्रह्मकुण्ड, बाड़व कुण्ड, लवणाक्ष तीर्थ, सहस्त्रधारा, जनकोटि शिव भी हैं।
  • बाडव कुण्ड से निरंतर आग निकलती रहती है।
  • शिवरात्रि को यहाँ भारी मेला लगता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=चट्टल_शक्तिपीठ&oldid=270591" से लिया गया