एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "२"।

आंगिक

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें

आंगिक - विशेषण (संस्कृत आङ्गिक) (स्त्रीलिंग आगिकी)[1]

  1. अंग सम्बंधी। अंग का।
  2. अंग की चेष्टा द्वारा व्यक्त या प्रकट किया हुआ, जैसे- आंगिक अभिनय[2]


आंगिक - संज्ञा पुल्लिंग

1. चित्त के भाव को प्रकट करने वाली चेष्टा, जैसे भ्रूविक्षेप, हाव आदि।

2. रस में कायिक अनुभाव।

3. नाटक में अभिनय के चार भेदों में से एक।

विशेष - चार भेद ये हैं-
(क) आंगिक - शरीर की चेष्टा बनाना, हाथ पैर हिलाना आदि।
(ख) वाचिक - बातचीत आदि की नकल।
(ग) आहार्य - वेशभूषा आदि बनाना।
(घ) सात्विक - स्वरभंग, कंप, वैवर्णय आदि की नकल।

4. मृदंग या ढोल का वादक[3]

5. बाँहदार या बँहोलीदार पुरुषों का परिधान जो घुटनों के नीचे तक पहुँचता था। अंगा[4]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिंदी शब्दसागर, प्रथम भाग |लेखक: श्यामसुंदरदास बी. ए. |प्रकाशक: नागरी मुद्रण, वाराणसी |पृष्ठ संख्या: 393 |
  2. नाट्य.
  3. अन्य कोश
  4. अन्य कोश

संबंधित लेख