अंकुर  

अंकुर - संज्ञा पुल्लिंग (संस्कृत अङ्कुर) (विशेषण अङ्कुरित, क्रिया अङ्कुरना)[1]

1. अंखुआ, गाभ, अँगुसा।

उदाहरण - "पाइ कपट जल अंकुर जामा।"[2]


2. डाभ, कल्ला, कनखा, कोंपल, आँख
3. यव का नया नया अँखुआ, जो मांगलिक होता है।

उदाहरण - "अच्छत अंकुर रोचन लाजा। मंजुल मंजरि तुलसि बिराजा।"[3]

क्रिया प्रयोग - आना, उगना, जमना, निकलना, फूटना, फोड़ना, फेंकना, लेना।

4. कली।
5. संतति, संतान।

उदाहरण -

(क) 'हमारे नष्ट कुल में ये एक अंकुर बचा है, इससे हमारा वंश चलेगा।'[4]

(ख) 'थे अंकुर हितकर कलश पयोधर पावन।'[5]

6. नोंक
7. जल, पानी।
8. रुधिर, रक्त, खून।
9. रोम, रोआँ।

अंकुर - संज्ञा पुल्लिंग (फ़ारसी अंगूर)
मांस के बहुत छोटे लाल-लाल दाने, जो घाव भरते समय उत्पन्न होते हैं। भराव। अंगूर।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिंदी शब्दसागर, प्रथम भाग |लेखक: श्यामसुंदरदास बी. ए. |प्रकाशक: नागरी मुद्रण, वाराणसी |पृष्ठ संख्या: 03 |
  2. रामचरितमानस 2।23
  3. रामचरितमानस 1।346
  4. श्रीनिवास ग्रंथावली, पृ146
  5. साकेत, पृ. 203

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अंकुर&oldid=638439" से लिया गया