Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
अंगज (शब्द संदर्भ) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

अंगज (शब्द संदर्भ)  

Disamb2.jpg अंगज एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- अंगज (बहुविकल्पी)

अंगज - विशेषण (संस्कृत अंङ्ज)[1]

शरीर से उत्पन्न, तन से पैदा।

उदाहरण - "कु अंगजों की बहु कष्टदायिता बता रही थी जो नेत्रवान को।"[2]

1. पुत्र, बेटा, लड़का।

उदाहरण - "कृष्ण गेह कै काम, काम अंगज जनु अनुराध।"[3]

2. पसीना।

3. बाल, केश, रोम।

4. काम, क्रोध आदि विकार।

5. साहित्य में स्त्रियों के यौवन संबंधी जो सात्विक विकार हैं, उनमें हाव, भाव और हेला- ये तीन 'अंगज' कहलाते हैं। कायिक।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिंदी शब्दसागर, प्रथम भाग |लेखक: श्यामसुंदरदास बी. ए. |प्रकाशक: नागरी मुद्रण, वाराणसी |पृष्ठ संख्या: 05 |
  2. प्रियप्रवास, पृ. 103
  3. पृथ्वीराजरासो, पृ. 1।727
  4. अन्य कोश

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अंगज_(शब्द_संदर्भ)&oldid=638394" से लिया गया