वीरनारायण  

वीरनारायण गोंडवाना का राजा था। उसकी नाबालिग अवस्था में ही मुग़ल बादशाह अकबर द्वारा राज्य पर आक्रमण हुआ था।

  • मुग़लों द्वारा आक्रमण किये जाने पर वीरनारायण की साहसी माँ रानी दुर्गावती ने शत्रुओं का सामना किया।
  • दुर्गावती की मृत्यु के बाद वीरनारायण ने अल्प वयस्क होते हुए भी मुग़लों के विरुद्ध तब तक युद्ध जारी रखा, जब तक लड़ाई में वह वीरगति को प्राप्त नहीं हो गया।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 438 |

संबंधित लेख

"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=वीरनारायण&oldid=528218" से लिया गया