अली नकी  

अली नकी गुजरात का दीवान था। उसकी दीवानी के समय मुग़ल बादशाह शाहजहाँ का चौथा बेटा मुराद बख़्श वहाँ का सूबेदार था। अली नकी की हत्या के झूठे अभियोग में ही शाहज़ादा मुराद बख़्श को 1661 ई. में मौत की सज़ा दी गई।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 22 |

संबंधित लेख

"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अली_नकी&oldid=318245" से लिया गया