लाड मलिका  

लाड मलिका चुनार के हाक़िम ताज़ ख़ाँ की पत्नी थी।

  • 1528 ई. में उसके सौतेले पुत्र ने उसके पति की हत्या कर दी।
  • विधवा होने के बाद उसने शेर ख़ाँ (बाद में शेरशाह सूरी) से शादी कर ली और न केवल चुनार के क़िले पर, बल्कि उसके ख़ज़ाने पर भी उसका क़ब्ज़ा करवा दिया।
  • इस प्रकार उसने शेरशाह को उसके विजय रथ पर अग्रसर किया, जिसके फलस्वरूप 1540 ई. में वह दिल्ली का बादशाह बन गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=लाड_मलिका&oldid=512308" से लिया गया