कपय नायक  

कपय नायक तेलंगाना के हिन्दुओं का नेता था। 1336 ई. में उसने दक्षिण भारत के पूर्वी तट पर अपने अलग राज्य की स्थापना की थी।

  • भारत से मुसलमानों का जुआ उतार फेंकने के प्रति कपय नायक दृढ़-प्रतिज्ञ था।
  • दिल्ली के तुग़लक़ वंश की शक्ति क्षीण होने पर 1335-1336 ई. के पश्चात् कपय नायक ने स्वतंत्र राज्य स्थापित कर लिया।
  • हिन्दू साम्राज्य की स्थापना करने में विजयनगर राज्य के संस्थापक दो भाइयों हरिहर और बुक्का के साथ उसने सहयोग किया।
  • कपय नायक ने अपनी राजधानी वारंगल में स्थापित की थी।
  • 1442 ई. में वारंगल पर बहमनी राज्य का आधिपत्य हो गया और हिन्दू साम्राज्य का सपना टूट गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कपय_नायक&oldid=235124" से लिया गया