आसन्न सागर  

महासागरों के सन्निकट पाये जाने वाले सीमांत और अंतर्देशी सागरों को आसन्न सागर कहा जाता है।

  • सामान्यत: इस प्रकार के सागर आकार में छोटे होते हैं, क्योंकि अनेत सीमांत और अंतर्देशी सागर पूर्णत: स्थल से घिरे होते हैं, इसी कारण इन सागरों का जल और धरातल निकट के स्थल खण्ड से प्रभावित रहता है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भौगोलिक शब्दावली |लेखक: आर. पी. चतुर्वेदी |प्रकाशक: रावत पब्लिकिशन, जयपुर व नई दिल्ली |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 06 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=आसन्न_सागर&oldid=525192" से लिया गया