अपक्षरण  

अपक्षरण वह प्रक्रिया है, जिसके द्वारा हिमानी की ठोस हिम/बर्फ नष्ट हो जाते है।[1]

  • अपक्षरण में तीन क्रियाएँ होती हैं-
  1. हिमानी का धरातलीय, आंतरिक अथवा तलीय भाग का पिघलना।
  2. ऊर्ध्वपातन, जिसमें ठोस हिम का जल में परिवर्तन होकर गैसीय अवस्था में परिवर्तित हो जाना।
  3. हिमशैल, हिमानी, हिमचादर का सागर अथवा झील में प्रवेश करने पर टुकड़ों में विखण्डित हो जाना।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भौगोलिक शब्दावली |लेखक: आर. पी. चतुर्वेदी |प्रकाशक: रावत पब्लिकिशन, जयपुर व नई दिल्ली |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 01 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अपक्षरण&oldid=525174" से लिया गया