वरदक  

वरदक अफ़ग़ानिस्तान का एक प्रान्त है। इसे 'वरदस्थान' भी कहा जाता है। यहाँ की ज़्यादातर आबादी यहाँ से निकलने वाले काबुल-कंदहार के आसपास के इलाक़े में बसती है और बाक़ी पहाड़ी स्थानों पर आबादी बहुत कम घनी है।

  • यहाँ पर एक प्राचीन बौद्ध स्तूप स्थित है, जिसमें एक पीतल के घड़े पर 6 ई. पू. का एक अभिलेख प्राप्त हुआ है।
  • प्रसिद्ध चीनी यात्री युवानच्वांग[1] ने इस स्थान का उल्लेख वर्तमान ग़ज़नी से 40 मील पर किया है।[2]
  • युवानच्वांग के अनुसार यहाँ का राजा तुर्की बौद्ध था।
  • वरदक को 'वरदस्थान' भी कहा जाता है।
  • इस प्रान्त का क्षेत्रफल लगभग 9,934 वर्ग कि.मी. है और इसकी आबादी सन 2009 में लगभग 5.4 लाख अनुमानित की गई थी।
  • यहाँ के अधिकतर लोग पश्तून हैं और पश्तूनों के वरदक क़बीले के ऊपर ही इस प्रान्त का नाम रखा गया है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. जिसका भारत भ्रमण काल 630-645 ई. है।
  2. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 832 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=वरदक&oldid=506803" से लिया गया