पेशावर  

बाला हिसार क़िला, पेशावर

पेशावर (प्राचीन 'पुरुषपुर') वर्तमान समय में पश्चिमी पाकिस्तान का एक प्रमुख शहर है। प्राचीन समय में पेशावर का नाम 'पुरुषपुर' हुआ करता था। ऐतिहासिक परम्परा के अनुसार सम्राट कनिष्क ने 'पुरुषपुर' को द्वितीय शती ई. में बसाया था और सर्वप्रथम कनिष्क के बृहत साम्राज्य की राजधानी बनने का सौभाग्य भी इसी नगर को प्राप्त हुआ था। पुरुषपुर प्राचीन समय में 'गाँधार मूर्तिकला' का मुख्य और ख्यातिप्राप्त केन्द्र माना जाता था।

कनिष्क की राजधानी

कनिष्क ने बौद्ध धर्म की दीक्षा लेने के पश्चात् अपनी राजधानी पुरुषपुर में एक महान् स्तूप का निर्माण करवाया था, जिसमें लकड़ी का प्रचुरता से प्रयोग किया गया था। स्तूप के ऊपर जाने के लिए सीढ़ियां बनी थीं और ऊपर एक सुंदर काष्ठ मंडप था। इसमें तेरह मंजिलें थीं और पूरी ऊँचाई लगभग 500 हाथ थी। कहा जाता है कि यह स्तूप कनिष्क के पश्चात् कई बार जला और बना था। इस महास्तूप के पश्चिम की ओर कनिष्क ने एक सुंदर एवं विशाल विहार भी बनवाया था, जिसकी भीतरी मंज़िल पर कनिष्क के गुरु 'भदंतपार्श्व' रहते थे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 566 |


संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पेशावर&oldid=629471" से लिया गया