अरिगेंव  

  • अलक्षेंद्र के भारत-आक्रमण के समय[1] सिंधु नदी के पश्चिम की ओर बजोर की घाटी में बसा हुआ एक नगर है।
  • यवनराज के आक्रमण की सूचना मिलने पर नगरवासी नगर को जलाकर छोड़ गए थे।
  • अरिगेंव की स्थिति संभवत: बजोर के वर्तमान मुख्य नगर नवगई के निकट थी।[2]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 38 | विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार
  1. 327 ई. पू.
  2. देखें स्मिथ- अर्ली हिस्ट्री ऑफ इंडिया, चतुर्थ संस्करण, पृ. 55

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अरिगेंव&oldid=627265" से लिया गया