ज़मींदार  

ज़मींदार भारत में ज़मीन के मालिक या क़ाबिज़ को कहते हैं। मूलतः फ़ारसी से व्युत्पन्न इस शब्द का व्यापक रूप से प्रयोग उन सभी जगहों पर हुआ, जहाँ मुग़ल या अन्य भारतीय मुस्लिम राजवंशों द्वारा फ़ारसी प्रभाव फैलाया गया। इस शब्द से कई अर्थ जुड़े हुए थे।

  • बंगाल में ज़मींदार शब्द का प्रयोग ऐसे वंशानुगत कर वसूलने वालों के रूप में होता था, जो राज्य के लिए वसूले गए राजस्व में से 10 प्रतिशत अपने पास रखने के अधिकारी होते थे।
  • 18वीं सदी के अंत में ब्रिटिश सरकार ने इन ज़मीदारों को भू-स्वामी बना दिया और इस तरह बंगाल और बिहार में एक ऐसा कुलीन भूपति वर्ग़ सामने आया, जो 1947 में भारत की आज़ादी तक बना रहा।
  • उत्तरी भारत के कुछ हिस्सों (मसलन उत्तर प्रदेश) में ज़मींदार शब्द से तात्पर्य एक ऐसे बड़े भू-स्वामी से होता था, जिसे भूमि पर संपूर्ण स्वामित्व अधिकार प्राप्त होते थे।
  • उत्तर भारत में इससे भी ज़्यादा प्रचलित अर्थ में ज़मींदार ज़मीन जोतने वालों या गांवों की गोचर भूमियों के साझा उत्तराधिकारियों को कहा जाता था।
  • मराठा इलाकों में यह नाम सामान्यतः सभी वंशानुगत अधिकारियों के लिए प्रयोग किया जाता था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ज़मींदार&oldid=499552" से लिया गया