आलमगीर द्वितीय  

आलमगीर द्वितीय
आलमगीर द्वितीय
पूरा नाम अज़ीज़ उद-दीन आलमगीर द्वितीय
जन्म 6 जून, 1699
जन्म भूमि मुल्तान, मुग़ल साम्राज्य
मृत्यु तिथि 29 नवम्बर, 1759
मृत्यु स्थान कोटला फतेहशाह, मुग़ल साम्राज्य
पिता/माता पिता- जहाँदार शाह
धार्मिक मान्यता इस्लाम
वंश मुग़ल वंश
शासन काल 1754 से 1759 ई.
अन्य जानकारी आलमगीर द्वितीय बंगाल को मुग़लों के क़ब्ज़े में बनाये रखने में असफल रहा। इस प्रकार भारत में ब्रिटिश साम्राज्य की नींव न पड़ने देने के लिए वह कुछ न कर सका।

आलमगीर द्वितीय (जन्म- 6 जून, 1699, मुल्तान; मृत्यु- 29 नवम्बर, 1759, कोटला फतेहशाह)16वाँ मुग़ल बादशाह था, जिसने 1754 से 1759 ई. तक राज्य किया। आलमगीर द्वितीय आठवें मुग़ल बादशाह जहाँदारशाह का पुत्र था। अहमदशाह को गद्दी से उतार दिये जाने के बाद आलमगीर द्वितीय को मुग़ल वंश का उत्तराधिकारी घोषित किया गया था। इसे प्रशासन का कोई अनुभव नहीं था। वह बड़ा कमज़ोर व्यक्ति था, और वह अपने वज़ीर ग़ाज़ीउद्दीन इमादुलमुल्क के हाथों की कठपुतली था। आलमगीर द्वितीय को 'अजीजुद्दीन' के नाम से भी जाना जाता है। वज़ीर ग़ाज़ीउद्दीन ने 1759 ई. में आलमगीर द्वितीय की हत्या करवा दी थी।

ग़ाज़ीउद्दीन की साज़िश

वज़ीर ग़ाज़ीउद्दीन ने 15वें मुग़ल बादशाह अहमदशाह को अन्धा करके गद्दी से उतार दिया और 1754 ई. में आलमगीर द्वितीय को बादशाह बनाया। वह चाहता था कि बादशाह उसके हाथ की कठपुतली बना रहे। यह समय बड़ी उथल-पुथल का समय था।

अब्दाली का हमला

1756 ई. में अहमदशाह अब्दाली ने चौथी बार भारत पर हमला किया और दिल्ली को लूटा। उसने सिंध पर क़ब्ज़ा कर लिया और अपने बेटे तैमूर को वहाँ का शासन करने के लिए छोड़ दिया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख


और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=आलमगीर_द्वितीय&oldid=628868" से लिया गया