गुलबदन बेगम  

गुलबदन बेगम प्रथम मुग़ल बादशाह बाबर की पुत्री और हुमायूँ की बहन थी। उसका जन्म 1523 ई. में तथा मृत्यु 1603 ई. में हुई। गुलबदन बेगम बहुत ही प्रतिभाशाली थी। उसने अपने भाई हुमायूँ के जमाने का विवरण एकत्र कर "हुमायूँनामा" नामक पुस्तक लिखी थी।

  • "हुमायूँनामा" पुस्तक में तत्कालीन समय के भारत की आर्थिक तथा सामाजिक दशा का महत्त्वपूर्ण विवरण प्राप्त होता है।
  • गुलबदन बेगम ने 'हुमायूँनामा' की रचना बादशाह अकबर के आदेश पर की थी।
  • एक जगह पर उसने लिखा है कि "शाही आदेश मिला कि फिरदौस-मकानी और जन्नत-आशयानी के बारे में जो कुछ भी जानती हो, लिखो।" गुलबदन बेगम सूचित करती है कि जब फिरदौस-मकानी (बाबर) स्वर्ग सिधारे, उनकी आयु केवल आठ वर्ष थी। इससे पता चलता है कि गुलबदन बेगम को बाबर के शासन काल की विशेष जानकारी नहीं थी। उसने हुमायूँ के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हुमायूँनामा (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 29 जनवरी, 2013।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=गुलबदन_बेगम&oldid=312598" से लिया गया