कालक  

कालक एक जैन आचार्य थे। एक जैन जनश्रुति के अनुसार यह माना जाता है कि भारत में शकों को आमंत्रित करने वाले आचार्य कालक थे।

  • जैन आचार्य कालक उज्जैन के निवासी थे और वहां के राजा गर्दभिल्ल के अत्याचारों से तंग आकर सुदूर पश्चिम के पार्थियन राज्य में चले गए थे।
  • कालकाचार्य ने शकों को भारत पर आक्रमण करने के लिए प्रेरित किया था।
  • कालक के साथ शक लोग सिन्ध में प्रविष्ट हुए और इसके बाद उन्होंने सौराष्ट्र को जीतकर उज्जयिनी पर भी आक्रमण किया और वहां के राजा गर्दभिल्ल को परास्त किया।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारत पर इन 11 विदेशियों ने किया था राज (हिंदी) webdunia। अभिगमन तिथि: 25 अप्रॅल, 2018।

संबंधित लेख

"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कालक&oldid=626598" से लिया गया