अजितसेन  


आचार्य अजितसेन

  • ये भी वि. सं. 18वीं शती के तार्किक हैं।
  • इन्होंने 'परीक्षामुख' पर 'न्यायमणिदीपिका' नाम की व्याख्या लिखी है, जो उसकी पाँचवीं टीका है।
  • इसका उल्लेख चारुकीर्ति ने 'प्रमेयरत्नालंकार[1] में किया है।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. प्रमेयरत्नालंकार,पृ0 181

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अजितसेन&oldid=171689" से लिया गया