भावसेन त्रैविद्य  

आचार्य भावसेन त्रैविद्य

  • ये विक्रम सम्वत 12वीं, 13वीं शताब्दी के जैन नैयायिक हैं।
  • इनकी उपलब्ध एकमात्र कृति 'विश्वतत्त्वप्रकाश' है।
  • इसका प्रकाशन जीवराज जैन ग्रन्थमाला, सोलापुर से हो चुका है।
  • यह बृहद ग्रन्थ महत्त्वपूर्ण और बोधप्रद है।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=भावसेन_त्रैविद्य&oldid=177774" से लिया गया