देवसूरि  

आचार्य देवसूरि

  • देवसूरि 'वादि' उपाधि से विभूषित अभिहित हैं।
  • इनके 'प्रमाणनयतत्त्वालोकालंकार' और उसकी व्याख्या 'स्याद्वादरत्नाकर' ये दो तर्कग्रंथ प्रसिद्ध हैं।
  • इन दोनों पर आचार्य माणिक्यनन्दि के 'परीक्षामुख' का शब्दश: और अर्थश: पूरा प्रभाव है।
  • इसके 6 परिच्छेद तो 'परीक्षामुख' की तरह ही हैं और अन्तिम दो परिच्छेद (नयपरिच्छेद तथा वादपरिच्छेद) परीक्षामुख से ज़्यादा हैं।
  • पर उन पर भी परीक्षामुख[1] के सूत्रों का प्रभाव लक्षित होता है।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. परि0 6/73, 74

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=देवसूरि&oldid=172502" से लिया गया