जसहर चरिउ  

जसहर चरिउ जैन साहित्य के महाकवि पुष्पदंत का ग्रंथ है।

  • महाकवि पुष्पदंत के दो आश्रयदाता थे। प्रथम राष्ट्रकूट वंश के महाराजाधिराज कृष्णराज (तृतीय) के महामात्य भरत और दूसरे महामात्य भरत के पुत्र नन्न, जो आगे चल कर महामात्य नन्न हुए। इन्हीं दोनों के प्रोत्साहन से महाकवि पुष्पदंत ने अनेक ग्रंथों की रचना की।
  • जसहर चरिउ (यशोधर चरित्र) ग्रंथ नन्न की प्रेरणा से लिखा गया।
  • इसमें चार संधियाँ हैं।
  • इस ग्रंथ में यशोधर नामक पुरुष का चरित्र कहा गया है।
  • यह एक खंड काव्य है और यह भी 'णाय कुमार चरिउ' के समान सुन्दर है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जसहर_चरिउ&oldid=509769" से लिया गया