तबतें बहुरि न कोऊ आयौ -सूरदास  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
तबतें बहुरि न कोऊ आयौ -सूरदास
सूरदास
कवि महाकवि सूरदास
जन्म संवत 1535 वि.(सन 1478 ई.)
जन्म स्थान रुनकता
मृत्यु 1583 ई.
मृत्यु स्थान पारसौली
मुख्य रचनाएँ सूरसागर, सूरसारावली, साहित्य-लहरी, नल-दमयन्ती, ब्याहलो
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
सूरदास की रचनाएँ
  • तबतें बहुरि न कोऊ आयौ -सूरदास

तबतें बहुरि न कोऊ आयौ।
वहै जु एक बेर ऊधो सों कछुक संदेसों पायौ॥
छिन-छिन सुरति करत जदुपति की परत न मन समुझायौ।
गोकुलनाथ हमारे हित लगि द्वै आखर[1] न पठायौ॥
यहै बिचार करहु धौं सजनी इतौ गहरू[2] क्यों लायौ।
सूर, स्याम अब बेगि मिलौ किन[3] मेघनि अंबर छायौ॥

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. दो अक्षर, छोटी-सी चिट्ठी।
  2. विलंब।
  3. क्यों नहीं।

संबंधित लेख


वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=तबतें_बहुरि_न_कोऊ_आयौ_-सूरदास&oldid=257997" से लिया गया